English | Increase Font size Normal Font Decrease Font size

हमारे बारे में

घटनाएं

पाठ्यक्रम

छात्रावास

नॉलेड्ज

निविदा सूचना

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
चारमीनार


उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम की ओर मुख किए हुए चार आलीशान कमानों के ऊपर बनी हुई ग्रेनाइट की चौकोर भव्य कृति है. इन कमानों के कमरे और दीर्घाओं के दो मंज़िलों का सहारा देता है. चौकोर संरचना के प्रत्येक कोने में एक छोटी मीनार है, जो 24 मीटर ऊंची है, इसके कारण इस भवन की ऊंचाई लगभग 54 मीटर है. इन चार मीनारों के कारण ही इस भवन का नाम चारमीनार पड़ा. प्रत्येक मीनार एक कमल के पत्ते के आधार पर खड़ी है, कुतुबशाही भवनों में इसका बार-बार प्रयोग किया गया है.

पहली मंज़िल पर कुतुबशाही ज़माने में मदरसा (कॉलेज) हुआ करता था. दूसरी मंज़िल पर पश्चिम की ओर एक मस्जिद है जिसका गुंबद सड़क से दिखाई देता है, यदि कोई थोड़ी दूर पर खड़ा हो. यद्यपि मीनारों पर भीड़ की वजह से सिर्फ उन्हीं सैलानियों को मीनारों के ऊपर तक जाने दिया जाता है जिनको भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, हैदराबाद सर्किल से विशेष अनुमति प्राप्त होती है. प्रत्येक कमान के ऊपर घड़ियां 1889 में लगाई गई है.

चारमीनार के चारों तरफ पैदल चलते हुए विस्मय होता है कि कैसे अतीत के कुछ बचे हुए टुकड़े वर्तमान के साथ मिल रहे हैं. चारमीनार के दक्षिणपूर्व की ओर निज़ामिया यूनानी अस्पताल की भव्य भवन स्थित है. लगभग 50 मीटर पश्चिम में लाड़ बाज़ार में दुकानों की कतार को एक पुरानी जीर्ण भूरे रंग की दीवार है, जो पुराने निज़ाम के जिलाऊ खाना (परेड ग्राउंड) का प्रवेश द्वार हुआ करती थी. इन मैदानों का आज-कल एक बड़े वाणिज्य कॉम्प्लेक्स के रूप में विकसित करने के लिए प्रयोग किया जा रहा है और आगे बाईं तरफ की सड़क खिलावत कॉम्प्लेक्स "चौमोहल्ला भवन" की ओर जाती है. लाड़ बाज़ार की सड़क एक चौक में समाप्त होती है जिसे महबूब चौक कहा जाता है. यहां उसी समय की नाज़ुक सफेद मस्जिद के ऊपर एक विशाल 19वीं सदी का घंटा-घर है.

समय : लोगों को पूरे दिन और रात में 10.00 बजे तक (केवल भवन के तल में जाने की अनुमति है).


Source : CMS Team Last Reviewed on: 01-02-2011  

  साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.